Golu Devta Aarti

जय जय दूदाधारी
बाला रे गोरिया, बाला रे गोरिया
जय कृ्ष्ण अवतारी
बाला रे गोरिया, बाला रे गोरिया !

गोट गई दूध दिछे, पुते पाने माई,
सारी पूत प्रजा हुनी तू छे वरदाई,
जय जय बलधारी,
बाला रे गोरिया बाला रे गोरिया !

जय कृ्ष्ण अवतारी
बाला रे गोरिया, बाला रे गोरिया
जय जय दूदाधारी
बाला रे गोरिया, बाला रे गोरिया !

साँच छू वचन तेरो
साँची तेरी वाणी
पंचनाम देवतो को तूई छै आगवानी (अगवानी)
जय जय न्यायकारी
बाला रे गोरिया, बाला रे गोरिया !

बाबू तेरा हालराई, बूबू झालराई
माता तेरी कलिंगा, सतवंती माई
जय जय कुलंकारी
बाला रे गोरिया, बाला रे गोरिया !

जय कृ्ष्ण अवतारी
बाला रे गोरिया, बाला रे गोरिया !

गोल्जयू हम अज्ञानी, ज्ञान हमन कै दिया,
सुफल है जाया देवा, विघ्न सबु कै हरिया
जय जय तपधारी,
बाला रे गोरिया, बाला रे गोरिया

जय कृ्ष्ण अवतारी
बाला रे गोरिया, बाला रे गोरिया

जय जय दूदाधारी
बाला रे गोरिया, बाला रे गोरिया !

न्याय के देवता, ग्वेल्ज्यु या गोलू देवता,उत्तराखंड के लोकदेवता

2 thoughts on “Golu Devta Aarti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *